द्रौपदी मुर्मू की जीत के बाद राजस्थान में बीजेपी की वागड़ जनजाति गौरव पदयात्रा का कल होगा आयोजन

द्रौपदी मुर्मू की जीत के बाद राजस्थान में बीजेपी की वागड़ जनजाति गौरव पदयात्रा का कल होगा आयोजन
-5264283304557104" crossorigin="anonymous">

हमारे देश को द्रौपदी मुर्मू के रूप में पहली आदिवासी राष्ट्रपति मिली है, इसी खुशी में राजस्थान बीजेपी भी विशेष आयोजन कर रही है। बीजेपी के प्रदेशाध्यक्ष रविवार को ”वागड़ जनजाति गौरव पदयात्रा” निकालने वाले हैं। इस यात्रा को वागड़ के आदिवासी अंचल में बीजेपी को मजबूत करने की कवायद के रूप में भी देखा जा रहा है।

लेकिन इन्ही सबके बीच राजनीतिक विश्लेषकों और पार्टी के नेताओं की नज़र इस बात पर भी रहेगी कि बीजेपी इस यात्रा से कितनी मजबूती का संदेश दे पाएगी और इससे आदिवासियों को कितना जोड़ पाएगी?

राष्ट्रपति चुनाव में एनडीए की प्रत्याशी की जीत के बाद राजस्थान में पार्टी मुखिया भी एक यात्रा में जुड़ने वाले हैं। इस बार ये यात्रा वागड़ में होने जा रही है इसलिए इस यात्रा को नाम दिया गया है ”वागड़ जनजाति गौरव पदयात्रा”। वागड़ अंचल के आदिवासियों के साथ होने वाली दो दिन की यह यात्रा रविवार 24 जुलाई यानि की कल से शुरू होगी। 

बांसवाड़ा के त्रिपुरा सुन्दरी मन्दिर में पूजा अर्चना के साथ शुरू होने वाली इस यात्रा का मार्ग लगभग 41 किलोमीटर लम्बा होगा। खास बात तो यह है कि सतीश पूनिया की यह यात्रा गाड़ियों के काफिले के साथ नहीं बल्कि पदयात्रा के रूप में होगी। डूंगरपुर-बांसवाड़ा की सीमा पर स्थित बेणेश्वर धाम पर इस यात्रा का समापन होगा।

यात्रा को जनजाति के गौरव से जोड़कर देखा जा रहा है और पार्टी का दावा है कि आदिवासी समाज के लोगों की पहल पर ही यह यात्रा निकली जाएगी।