कोरोना काल में खनन मंत्री की रणनीति से खान विभाग ने अर्जित किया 4234 करोड़ का राजस्व रिकार्ड

कोरोना काल में खनन मंत्री की रणनीति से खान विभाग ने अर्जित किया 4234 करोड़ का राजस्व रिकार्ड
-5264283304557104" crossorigin="anonymous">

khabarexpo: प्रदेश में कोरोना से बिगड़े हालातों के बीच खनन विभाग ने शानदार कार्य किया है। खनन मंत्री प्रमोद जैन भाया और एसीएस डॉ. सुबोध अग्रवाल, निदेशक कुंज बिहारी पांड्या की तिकड़ी ने बेहतर रणनीति के साथ कार्य करते हुए महज 9 महीनों में 4 हजार करोड़ रूपये से अधिक का राजस्व अर्जित कर नया कीर्तिमान स्थापित किया है। बता दें कि ये राशि पिछले सालों की तुलना में 1000 करोड़ रूपये अधिक है। खान मंत्री प्रमोद जैन भाया ने बताया है कि राज्य के खान विभाग ने 6 जनवरी तक 4 हजार करोड़ रुपए का अधिक राजस्व संग्रहित कर नया रिकार्ड स्थापित किया है।

खान विभाग द्वारा 6 जनवरी तक 4234 करोड़ रुपए से अधिक का राजस्व संग्रहित किया गया है। यह पूर्व के दो सालों की इसी अवधि से करीब करीब एक हजार करोड़ रुपए अधिक है। उन्होंने राजस्व संग्रहण में उल्लेखनीय उपलब्धि पर अधिकारियों की हौसला अफजाई की है। एसीएस डॉ. अग्रवाल ने बताया कि विभाग की उच्चस्तरीय नियमित मोनेटरिंग का ही परिणाम है कि प्रदेश में माइंस विभाग द्वारा राजस्व संग्रहण का नया रिकार्ड बनाया जा रहा है। आरएसएमईटी, एनएमईटी, डीएमढफटी की राशि को भी जोड़ने के बाद यह राशि बढ़कर 5170 करोड़ रुपए से भी अधिक हो जाती है। 

उन्होंने बताया कि योजनावद्ध प्रयासों, लगातार समीक्षा, छीजत पर प्रभावी रोक के निर्देश, अवैध खनन, परिवहन और भण्डारण पर सख्त कार्यवाही के निर्देशों का परिणाम रहा है कि प्रदेश में माइंस विभाग के राजस्व संग्रहण में उल्लेखनीय बढ़ोतरी हो रही है। डॉ. अग्रवाल ने बताया कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा समय समय पर की गई विभाग के कार्यों की समीक्षा के दौरान खोज खनन कार्य को गति देने और राजस्व बढ़ाने के निर्देश दिए जाते रहे हैं।