दुष्कर्म मामले में जयपुर के सीआई केपी सिंह हुए गिरफ्तार, वर्ष 2020 में उन पर लगा था ये आरोप

दुष्कर्म मामले में जयपुर के सीआई केपी सिंह हुए गिरफ्तार, वर्ष 2020 में उन पर लगा था ये आरोप
-5264283304557104" crossorigin="anonymous">

Khabarexpo: राजस्थान पुलिस में तैनात सीआई केपी सिंह को एक महिला से दुष्कर्म करने के मामले में गिरफ्तार कर लिया गया है। कल देर रात के पी सिंह को करणी विहार थाना पुलिस ने गिरफ्तार किया है। आपको बता दे कंवर पाल सिंह के खिलाफ वर्ष 2020 में उन्ही की एक परिचित महिला ने मारपीट और दुष्कर्म का केस करणी विहार थाने में दर्ज करवाया था। इस दौरान आरोपी सी आई झुंझुनूं में मानव तस्करी विरोधी यूनिट प्रभारी के पद पर तैनात थे।

इस महिला की शिकायत पर दर्ज हुए मुकदमें की जांच पहले सीआई द्वारा की गई और फिर एडिशनल डीसीपी वैस्ट बजरंग सिंह को इसकी जानकारी दी गई। जब तक पुलिस ने आरोपी के पी सिंह को गिरफ्तार नहीं किया था। आरोपी ने हाईकोर्ट पहुंचकर कोर्ट से अग्रिम जमानत ले ली थी। जब पीड़िता को न्याय नहीं मिला तो उसने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया। जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने 13 जुलाई को सीआई की गिरफ्तारी पर से रोक हटाते हुए पुलिस को आरोपी को जल्द गिरफ्तार करने के आदेश दे दिए। जिसके बाद कल रात केपीसिंह को गिरफ्तार कर लिया गया है।

आरोपी की पत्नी ने पीड़िता के पति पर किया केस

पीड़िता पर दबाव बनाने के लिए के पी सिंह ने अपनी पत्नी से पीड़िता के पति के खिलाफ ब्लैकमेलिंग का मामला दर्ज करवाया है। झोटवाड़ा थाना पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर अनुसंधान शुरु कर दिया है। फिलहाल पुलिस जांच में ऐसा कुछ प्रमाण सामने नहीं आया है।

केपी सिंह पर ये था आरोप

पीड़िता ने सुप्रीम कोर्ट में गिरफ्तारी के लिए यह याचिका लगाई है। जिस में पीड़िता ने बताया है कि उसकी बहन का झुंझुनूं महिला थाने में एक मामला दर्ज था। जिस के सारे दस्तावेज तत्कालीन सीआई के पी सिंह के पास थे। पीड़िता ने जब सी आई से दस्तावेज मांगे तो उसने पीड़िता को जयपुर बुलाया। यहां पर उसने महिला को पेय पदार्थ में नशीला पदार्थ डालकर पिला दिया। जिसके बाद आरोपी ने उसके साथ दुष्कर्म किया और उसकी फोटो और वीडियो बना ली। पीड़िता ने मुकदमा दर्ज कराया लेकिन आरोपी ने हाईकोर्ट से अग्रिम जमानत ले ली। साथ ही वह उसे बार-बार मुकदमा वापस लेने का भी दबाव बना रहा है।