कृष्णा सेवा संस्थान असहाय व्यक्तियों का सबसे बड़ा सहारा- अराबा

कृष्णा सेवा संस्थान असहाय व्यक्तियों का सबसे बड़ा सहारा- अराबा
-5264283304557104" crossorigin="anonymous">

संवाददाता- योगेश सोनी

बालोतरा। कृष्णा सेवा संस्थान द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों का दौरा करते हुए ग्राम सरवड़ी और ग्राम खारवा स्थित पीड़ितों को सहायता पहुंचाई गयी। कृष्णा सेवा संस्थान के अध्यक्ष धर्मेन्द्र दवे ने बताया कि पूर्व सभापति पारस भंडारी के नेतृत्व में और कल्याणपुर प्रधान उमेदसिंह अराबा की अनुशंसा पर संस्थान द्वारा विभिन्न गाँवो का दौरा किया गया जिसमें सरवड़ी में आग जनी में अपना सर्वस्व गंवा बैठे नारायण राम व ग्राम खारवा के असहाय चौथाराम भील को आर्थिक सहायता, तरपाल, कंबल एंव दो माह की राशन सामग्री का वितरण करके राहत प्रदान की गयी।

दवे ने कहा कि संस्थान द्वारा निरंतर ऐसे परिवारों में राहत सामग्री पहुंचाई जा रही है जिनका कोई सहारा नहीं होता, संस्थान के मार्गदर्शन मंडल सदस्य पारस भंडारी ने कहा कि कृष्णा सेवा संस्थान के पास कल्याणपुर प्रधान की अनुशंसा पर इन परिवारों के बारे में बताया गया था तो इन दोनों परिवारों को मदद पहुंचाई गयी है इसी तरह संस्थान के पास गाँव गाँव, ढ़ाणी ढ़ाणी से सुचना आती रहती है और लोगों को संस्थान के कार्यों पर भरोसा है इसलिए प्रत्येक असहाय व्यक्ति कृष्णा सेवा संस्थाकृष्णा सेवा संस्थान असहाय व्यक्तियों का सबसे बड़ा सहारा- अराबान से उम्मीद रखता है और हम उनके दर्द में हमदर्द बनके मानवता का फर्ज निभा रहें है।

कल्याणपुर प्रधान ने कृष्णा सेवा संस्थान के प्रत्येक कार्य की सराहना करते हुए कहा कि ज़ब मैंने संस्थान को इन परिवारों के बारें में जानकारी दी तो अध्यक्ष धर्मेन्द्र दवे अपने साथ सदस्यों को लेकर यहां 40 किलोमीटर दूर आकर भी सहायता पहुंचाई है जो कि बहुत ही अतुलनीय कार्य है। उन्होंने कहा कि कृष्णा सेवा संस्थान हमारे क्षेत्र की एक मात्र संस्था है जो सेवा के प्रत्येक प्रकल्प में कार्य कर रही है किसी निजी संस्था का ईतना उत्कृष्ट होना कार्य बहुत ही अनुकरणीय व आश्चर्य जनक है।

पीड़ित परिवारों ने राहत सामग्री मिलने पर कल्याणपुर प्रधान उमेदसिंह अराबा, पारस भंडारी व संस्थान के अध्यक्ष धर्मेन्द्र दवे का आभार व्यक्त किया। इस अवसर पर आनंद दवे, मुलसिंह देवड़ा, मानाराम चौधरी, राजू माली बिठूजा, विमल मालवीय सहित ग्रामवासी व सदस्य मौजूद रहें।