Monsoon Diet: बरसात के मौसम में बिल्कुल न करें इन चीजों का सेवन, हों सकता है खतरा

-5264283304557104" crossorigin="anonymous">

गर्मी के मौसम में बारिश की बूंदे दिल और दिमाग को काफी सुकून देती है, क्योंकि भीषण गर्मी, उमस और चिलचिलाती धूप के बाद जब मानसून आता है तो राहत का अहसास होता है। बरसात का मौसम काफी लोगों को पसंद होता है क्योंकि इससे तापमान में काफी गिरावट देखने को मिलती है और माहौल सुहाना हो जाता है। लेकिन बारिश अपने साथ कई बीमारियां और संक्रमण को भी साथ लाती है। इसलिए हमें इस दौरान अपनी सेहत का खास ख्याल रखना जरुरी होता है। खासकर की इस मौसम में खाने पीने का सेलेक्शन सोच समझकर करना चाहिए। 

बरसात में इन फूड्स से बनाएं दूरी

नॉन वेज फूड्स

सनातन धर्म में सावन के महीने में नॉन वेज फूड्स को खाने से मना किया गया है, लेकिन इसके पीछे साइंटिफिक रीजन भी शामिल है। दरअसल बारिश के मौसम में फंगल इंफेक्शन, फफूंदी और मांस के जल्दी सड़ने का खतरा होता है, क्योंकि इस दौरान डायरेक्ट सनलाइट की कमी के कारण कीटाणुओं का प्रजनन काफी तेजी से होता है।

हरी पत्तेदार सब्जियां

मानसून के दौरान खास तौर से हरी पत्तेदार सब्जियों से भी परहेज करना चाहिए, भले ही इसमें कितने ही पोषक तत्व क्यों न हों। बरसात के वक्त नमी थोड़ी ज्यादा बढ़ होती है जिससे जर्म्स को पैदा होने में मदद मिलती है। ये पत्तेदार सब्जियों पर भी हमला करते हैं और इसे खाने लायक नहीं छोड़ते है।

दही               

Home made yogurt in clay pot

दही हमारी सेहत के लिए काफी फायदेमंद है, क्योंकि इसके जरिए डाइजेशन दुरुस्त रहता है। लेकिन बरसात के मौसम में इसे नहीं खाना चाहिए। क्योंकि ये ठंडी तासीर वाली चीज है इसलिए दही को खाने से सर्दी-जुकाम और गले में खराश हो सकती है।

दूध

बरसात के दौरान कीड़े- मकोड़ों की संख्या काफी बढ़ जाती है और इससे डेंगू-चिकनगुनिया के मच्छर भी बढ़ने लगते हैं जिससे दूध देने वाले मवेशी भी बीमार पड़ जाते हैं। इसलिए इन जानवरों के दूध को पीने से बीमारियों का खतरा बना रहता है।