राजस्थान में 3 जनवरी से बंद हो सकते हैं स्कूल-कॉलेज, मंत्रियों ने मीटिंग दिए ये सुझाव

राजस्थान में 3 जनवरी से बंद हो सकते हैं स्कूल-कॉलेज, मंत्रियों ने मीटिंग दिए ये सुझाव
-5264283304557104" crossorigin="anonymous">

khabarexpo : राजस्थान की राजधानी जयपुर में कोरोना नियंत्रण के लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की लाइव ओपन मीटिंग करीब तीन घंटे तक चली। इस बैठक में स्कूल-कॉलेजों को तत्काल प्रभाव से बंद करने की मांग की गई है। यह मांग मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने की है।

खाचरियावास ने कहा कि 3 जनवरी से स्कूल खुलने जा रहे हैं, ऐसे में करीब एक हफ्ते या 15 दिन के लिए स्कूल-कॉलेज बंद कर दिए जाएं। मेयर शील धाबाई ने भी स्कूल बंद करने की मांग की। बैठक में मंत्री राजेंद्र यादव ने कहा कि एयरपोर्ट, स्टेशन और बस स्टैंड पर सख्ती बरतने की जरूरत है। मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि एयरपोर्ट पर पूछताछ करने वाला कोई नहीं है। पूरे राज्य में यह संदेश गलत जा रहा है। कलेक्टर ने कहा कि अडानी ग्रुप के लोग वीआईपी को अलग से निकालते हैं। जांच भी नहीं हो रही है। रफीक खान ने कहा कि न जाने वालों की जांच होती है, न आने वालों की जांच होती है।

मंत्री महेश जोशी ने कहा कि सरकार के जो भी विज्ञापन जाते हैं, उन विज्ञापनों में कोरोना से जुड़ा संदेश भी होना चाहिए। अस्पताल में सामान्य बीमारी के मरीजों का दबाव नहीं बढ़ना चाहिए। मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि सख्ती आज से लागू करे या तीन से। महेश जोशी ने कहा कि सख्ती तीन तारीख से हो। इस पर खाचरियावास ने मजाक में कहा कि आप किसी कार्यक्रम में जा रहे हैं? इस पर महेश जोशी ने कहा कि मैं कहीं नहीं जा रहा हूं। सीएम चाहें तो इसे अभी से सख्ती से लागू करें। सीएम ने महेश जोशी से पूछा, क्या आप आज दूध पिलाने नहीं जाओंगे? अधिकारियों ने बताया कि आज के दूध कार्यक्रम रद्द हो गए।

पार्षदों की बैठक लेने के निर्देश

मुख्यमंत्री गहलोत ने दोनों महापौरों को अपने-अपने निगमों के पार्षदों की बैठक लेने के निर्देश दिए। हेरिटेज मेयर मुनेश गूर्जर ने कहा कि पर्यटकों के प्रति अधिक गंभीर होना जरूरी है। ग्रेटर मेयर शील धाभाई ने कहा कि पहले पार्षद भी वैक्सीन कैंप लगाते थे। लेकिन बाद में पार्षदों के कैंप पर रोक लगा दी। पता नहीं किसके इशारे पर इसे बैन किया गया। ऐसे में पार्षदों को भी दोबारा अनुमति दी जाए। सीएम ने पूछा पार्षदों को कैंप लगाने से मना क्यों किया? इस पर प्रताप सिंह ने कहा कि शिविर का राजनीतिकरण किया गया। महेश जोशी ने कहा कि प्रतियोगिता हो जाती है। अमीन कागजी ने कहा कि इसका राजनीतिकरण हो जाता है। शील धाभाई ने कहा कि ऐसा नहीं होता है। सीएम गहलोत ने कहा कि मैं इसे दोबारा दिखाऊंगा।

अगले 15 दिन बेहद अहम

बैठक में डीजीपी एमएल लाठर ने कहा कि अगले 15 दिन बेहद अहम हैं। इसके लिए युद्धस्तर पर तैयारी करनी होगी। बैठक में सीएस निरंजन आर्य ने कहा कि सभी विभाग गंभीरता से कार्रवाई करें। जयपुर कलेक्टर को प्रेजेंटेशन के संबंध में सुझाव दिए। अभय कुमार ने बैठक में जानकारी दी। अंतिम संस्कार की संख्या को 20 लोगों तक सीमित करने का प्रस्ताव। शादी समारोह में लोगों की संख्या 200 तक सीमित करने का प्रस्ताव। छात्र माता-पिता की लिखित सहमति से ही स्कूल आते हैं। भीड़भाड़ वाले इलाके में एंटी कोविड टीम तैनात की जाएगी। धार्मिक स्थलों पर भीड़ को रोकने के उपाय करने होंगे। कंटेनमेंट जोन का सख्ती से पालन करना होगा। कल से रात का कर्फ्यू सख्ती से लागू किया जाएगा।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *