कोरोना रोगियों पर की गई स्टडी, सामने आया कि मरीजों में कम से कम 2 साल बाद तक भी दिखाई देते हैं कोरोना के लक्षण

कोरोना रोगियों पर की गई स्टडी, सामने आया कि मरीजों में कम से कम 2 साल बाद तक भी दिखाई देते हैं कोरोना के लक्षण
-5264283304557104" crossorigin="anonymous">

कोविड-19 के कारण अस्पताल में भर्ती हुए लोगों में से कम से कम आधे लोग तो संक्रमण के दो साल बाद यानी अभी तक भी कई लक्षणों से पीड़ित हैं। द लैंसेट रेस्पिरेटरी मेडिसिन में मंगलवार को प्रकाशित एक स्टडी में यह खुलासा किया है। आपको बता दें कि कोरोना का सबसे पहला मामला 2019 के अंत में चीन में पाया गया था जिसके बाद पूरी दुनिया में मानों इसका कहर टूट पड़ा था। अब चीन में भी रोगियों पर आधारित इस स्टडी में लॉन्ग कोविड के आसपास साक्ष्य जुटाए गए हैं जिसमें ये कहा गया है कि किसी के वायरस से फ्री होने के बाद भी ये लक्षण उसमें बने रहते हैं।

जापान फ्रेंडशिप हॉस्पिटल इन चाइना और स्टडी के प्रमुख लेखक चीन के प्रोफेसर बिन काओ ने एक बयान में ये कहा है कि, “हमारे शोध बताते हैं कि अस्पताल में भर्ती होने के बाद जिन कोविड-19 सर्वाइवर्स ने कोरोना को मात दे दी उन्हें पूरी तरह से ठीक होने के लिए दो साल से अधिक समय की आवश्यकता होती है।” उन्होंने ये भी कहा कि जिन लोगों को बीमारी लंबे समय तक रही है उन्हें कोविड-19 सर्वाइवर्स का लगातार फॉलो-अप करना जरूरी है। वैज्ञानिक का ये कहना है कि, “उन लोगों के एक महत्वपूर्ण अनुपात को निरंतर सहायता प्रदान करने की स्पष्ट आवश्यकता है जिनको ये गंभीर बिमारी हुई है।